सिंड्रेला की कहानी अच्छी अच्छी

cinderella-ki-kahani-acchi-acchi
सिंड्रेला की कहानी अच्छी अच्छी

सिंड्रेला की कहानी अच्छी अच्छी

 

एक बार की बात है, सिंड्रेला नाम की एक खूबसूरत और दयालु लड़की थी। वह अपनी क्रूर सौतेली माँ और सौतेली बहनों के साथ रहती थी। उसके साथ घर में नौकर की तरह व्यवहार किया जाता था। वह घर की सफाई, कपड़े इस्त्री करना सहित घर के सारे काम करती थी।

 

सिंड्रेला की कहानी अच्छी अच्छी 


एक दिन, उनके घर एक पत्र आया। यह शाही स्वयंवर का निमंत्रण था। राजा और रानी चाहते थे कि उनका बेटा यानि राजकुमार अपनी दुल्हन चुने और इसीलिए राज्य में सभी को आमंत्रित किया गया था। पूरे राज्य की लड़कियां स्वयंवर को लेकर उत्साहित थीं। सिंड्रेला की सौतेली माँ ने तुरंत अपनी दोनों सगी बेटियों के लिए नए खुबसूरत गाउन बनाने शुरू किये । सिंड्रेला ने भी अपने लिए गाउन की सिलाई को पूरा करने के लिए कड़ी मेहनत की। अपनी बहनों के गाउन के बचे हुवे धागे और मोतियों से सिंड्रेला ने खुद के लिए भी एक गाउन तैयार किया।

 

शाही स्वयंवर के दिन, जब सौतेली माँ और सौतेली बहनें निकलने वाली थीं, उन्होंने सिंड्रेला को गाउन में देखा। दोनों बहनों में जलन हो गई। उन्होंने सिंड्रेला का गाउन फाड़ा डाला और मोतियों को खींचकर तोड़ दिया।

 

सिंड्रेला की कहानी अच्छी अच्छी 


सिंड्रेला रोने लगी लेकिन उसकी आँखों के सामने एक परी प्रकट हुवी सिंड्रेला परी को देखकर वह चकित रह गई। परी ने कहा, "मैं तुम्हारी परी गॉडमदर हूं। मुझे पता है कि आप स्वयंवर में जाना चाहती हैं। चिंता न करें, मैं आपकी मदद करूंगी। "

 

उसने फिर अपनी जादू की छड़ी लहराई और सिंड्रेला की फटी ड्रेस को एक आकर्षक खुबसूरत गाउन में बदल दिया। फिर उसने एक लकड़ी के टुकड़े को एक विशाल रथ में बदल दिया। और उसने छह चूहों को चार घोड़ों और दो प्रशिक्षकों में बदल दिया। अब एक चार घोड़ो की शानदार शाही सवारी तेयार थी ।

 

सिंड्रेला की कहानी अच्छी अच्छी 

 

लेकिन परी गॉडमदर ने सिंड्रेला को एक चेतावनी दी की आधी रात होते ही मेरा जादू समाप्त हो जाएगा और सारी चीजे वापस पहले जेसी हो जाएगी ।

 

जब सिंड्रेला स्वयवर कक्ष में दाखिल हुई, हर कोई उसके आकर्षण से प्रभावित था। यहां तक ​​कि राजकुमार सिंड्रेला को देखते देखते गिर गया। राजकुमार ने आकर सिंड्रेला से डांस करने के लिए कहा। सिंड्रेला की खुशी कोई सीमा नहीं थी। उन्होंने खूब नृत्य किया और बातचीत की, लेकिन सिंड्रेला को याद आया की आधी रात होने वाली है और सब कुछ पहले जेसा हो जायेगा । सिंड्रेला स्वयवर कक्ष से भाग गई।

 

सिंड्रेला स्वयवर कक्ष से दौड़ रही थी, उसकी एक चप्पल महल की सीढ़ियों पर गिर गई। सिंड्रेला बहुत तेजी से दौड़ रही थी इतने में आधी रात हो गयी और सिंड्रेला वापस पहले जेसे फटे गाउन में आ गयी और उसकी शाही सवारी भी वापस चूहों में बदल गयी ।

 

कुछ समय बाद, उसकी सौतेली माँ और सौतेली बहनें घर पहुँचीं। वे सिंड्रेला का मजाक उड़ा रही थी और उस पर जोर जोर से हंस रही थी । इस पर सिंड्रेला रोने लगी उसकी आँखों से  आंसू आ रहे थे ।

 

लेकिन राजकुमार को सिंड्रेला से प्यार हो गया था लेकिन वह इस बात से अनजान था कि वह कौन है ! वह उससे शादी करना चाहता था। जैसे ही उसे सिंड्रेला की चप्पल मिली, वह उस चप्पल को फिट करने वाले पैर की तलाश में चला गया।

 

राजकुमार और उसके नौकर हर घर में लड़की की तलाश कर रहे थे। अंत में, वे सिंड्रेला के घर पहुँचे। सौतेली बहनों ने चप्पल में अपना पैर फिट करने की बहुत कोशिश की लेकिन ऐसा करने में असमर्थ थीं। राजकुमार ने तब सिंड्रेला को चप्पल आजमाने के लिए कहा।

 

सौतेली माँ ने सिंड्रेला का मज़ाक उड़ाते हुए कहा कि वह एक नौकर है इसलिए वह उस खूबसूरत लड़की की तरह नहीं हो सकती। लेकिन राजकुमार ने जोर देकर कहा कि उसे भी कोशिश करनी चाहिए। जब उसने चप्पल के अंदर पैर रखा, तो यह पूरी तरह से फिट थी ।

 

राजकुमार को आखिरकार वह लड़की मिल गई जिसकी उसे तलाश थी। उन्होंने शादी कर ली और हमेशा के लिए खुशी ख़ुशी रहने लगे ।

 

शिक्षा :- खूबसूरती आपके व्यवहार में होती है कपड़ो में नहीं ।

 

और मजेदार कहानियां पढ़े 


हाथी और शेर की कहानी

बुद्धिमान लोमड़ी और कौवा और सांप की कहानी

हाथी और शेर की लड़ाई

हाथी और बंदर की कहानी

कछुआ और खरगोश की कहानियां

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ