बुद्धिमान लोमड़ी और कौवा और सांप की कहानी

कौवा और सांप की कहानी
कौवा और सांप की कहानी

 

कौवा और सांप की कहानी

 

एक बार एक बहुत बड़े आम के पेड़ पर कौवे का एक जोड़ा रहता था। उसी आम के पेड़ की जड़ के पास एक सांप का बिल था । वो सांप बड़ा दुष्ट था । हर बार जब भी कौवे का जोड़ा अंडे देता तो वो सांप पेड़ पर चढ़कर उनके अंडे खा जाता था ।

 

कौवे का जोड़ा उस सांप से बहुत परेशान था । उन्होंने कई बार सांप से विनती की, की आप हमारे अंडे मत खाओ, लेकिन वो दुष्ट सांप कौवे के जोड़े को हर बार यही कहता की, इस बार तुम्हारे अंडे में नहीं खाऊंगा । लेकिन हर बार उनके अंडे खा जाता था ।

 

कौवा और सांप की कहानी

 

एक सुबह जब कौवे का जोड़ा भोजन की तलाश में गया तो सांप पेड़ पर गया और फिर से कौवे के जोड़े के अंडे खा गया। जब कौवे वापस आए, तो उन्हें उनके अंडे फिर नहीं मिले ।

 

कौवे का जोड़ा अब सांप से बहुत परेशान हो चूका था लेकिन उन्हें यह समझ नहीं आ रहा था की वो सांप का क्या करे ।

 

कौवे के जोड़े ने बहुत सोचा लेकिन उन्हें सांप से अपने अन्डो को बचाने की कोई तरकीब नहीं सूझ रही थी और ना ही वे सांप को मार सकते थे ।

कौवे के जोड़े को सोचते सोचते ध्यान आया की उनका एक मित्र लोमड़ी है जो बहुत बुद्धिमान है। तब कौवे के जोड़े ने बुद्धिमान लोमड़ी से मिलने का सोचा ।

 

उसके पश्चात कौवे का जोड़ा बुद्धिमान लोमड़ी के पास गया और अपनी पूरी आपबीती लोमड़ी को सुनाई । लोमड़ी ने सारी कहानी सुनकर कौवे के जोड़े को एक योजना बताई ।

 

और कौवे के जोड़े को कहा की तुम कल नदी के किनारे जाना । वंहा पर राजकुमारी अपनी सहेलियों के साथ स्नान करने आती है । और जब राजकुमारी स्नान करने से पहले अपने कपडे और गहने उतारे तो तुम राजकुमारी की मोतियों की माला उठा लेना और उस दुष्ट सांप के बिल में ले जाकर गिरा देना ।

 

कौवे के जोड़े ने लोमड़ी के कहे अनुसार दुसरे दिन राजकुमारी की मोतियों के माला अपनी चोंच से उठा ली और उड़कर सांप के बिल के पास पहुंचकर सांप के बिल में गिरा दी ।

 

कौवे के जोड़े का पीछा करते करते राजकुमारी के सुरक्षा सेनिक भी वंहा पहुँच गये और उन्होंने कौवे के जोड़े को मोतियों की माला सांप के बिल में छुपाते हुवे देख लिया । 

 

कौवा और सांप की कहानी

 

राजकुमारी के सुरक्षा सेनिक सांप के बिल के पास पहुँच गये और सांप के बिल में से मोतियों की माला निकालने के लिए भाले से हमला किया । भाले का वार सांप के मुंह पर लगा और सांप मर गया । और राजकुमारी के सेनिक वो मोतियों के माला लेकर चले गये ।

 

अब कौवे का जोड़ा बहुत खुश था और उसी पेड़ पर अपना जीवन ख़ुशी खुशी व्यतीत करने लगा । अब उन्होंने और अंडे दिए और उनके अंडे से उनके बच्चे भी निकल चुके थे अब कौवे का जोड़ा बहुत खुश था ।

 

शिक्षा :-  यदि आप बुद्धिमान हैं तो आप बड़ी से बड़ी मुश्किल को भी आसानी से पार कर सकते हैं।

 

हाथी और शेर की कहानी

 

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ