कछुआ, कौवा, चूहा, हिरण और शिकारी की कहानी

hiran aur shikari ki kahani- hindi kahaniyan
हिरण और शिकारी की कहानी

 

कछुआ, कौवा, चूहा, हिरण और शिकारी की कहानी

 

दोस्तों बहुत समय पहले की बात है एक हिरण, कछुआ, कौवा और एक चूहा दोस्त थे। वे चारों मिलकर जंगल में खुशी से रहते थे।

 

एक दिन हिरण एक शिकारी के जाल में फंस गया, हिरण ने काफी देर तक कोशिश की लेकिन अकेला जाल से नहीं निकल पाया, कुछ ही देर में हिरण के दोस्त कछुआ, कौवा और चूहा वंहा पर आ गये हिरण के दोस्तों ने हिरण को बचाने के लिए एक योजना बनाई।

 

हिरण और शिकारी की कहानी

 

हिरन ने ऐसा दिखाया जैसे कि वह दर्द में है और फिर वह गतिहीन हो गया, आँखें खुली हुई, जैसे कि वह मर गया हो। कौआ और दूसरे पक्षी हिरण पर बैठ गए और उसे चोंच मारना शुरू कर दिया जैसे वे एक मरे हुए जानवर को करते हैं।

 

इसके बाद कछुए ने शिकारी को विचलित करने के लिए शिकारी के सामने से रास्ते को पार किया। शिकारी ने हिरण को मृत मानकर हिरण को छोड़ दिया और कछुए का शिकार करने के लिए उसके पीछे चला गया।

 

हिरण और शिकारी की कहानी

 

इस बीच चूहे ने हिरण को आज़ाद करने के लिए जाल को काट दिया, और जब हिरण पूरी तरह से आज़ाद होकर भाग गया तो कौवे ने शिकारी के सामने से कछुए को उठाया और जल्दी से शिकारी से बहुत दूर ले गया।

 

शिक्षा :- एक साथ मिलकर काम करने से हमेशा सफलता मिलती है और एकता में शक्ति है ।

 

(यह भी पढ़े :- मजेदार और रोमांचक हिन्दी कहानियां)

 

हिरण और शिकारी की कहानी - 2

 

hiran aur shikari ki kahani- hindi kahaniyan
हिरण और शिकारी की कहानी

हिरण और शिकारी की कहानी

 

एक बार की बात है एक घने जंगल में एक हिरण रहता था। एक दिन एक शिकारी जंगल में शिकार के लिए आया उसने उस हिरण को देखा और उसकी खूबसूरती से बहुत आकर्षित हुआ।

 

शिकारी ने उस हिरण का कई दिनों तक पीछा किया, शिकारी ने पाया कि हिरण हर दिन फलों को खाने के लिए एक ही पेड़ के नीचे आता था और यह एक सेब का पेड़ था।

 

हिरण और शिकारी की कहानी

 

शिकारी हिरण की सुंदरता से इतना आकर्षित था की वह हिरण को जिंदा पकड़ना चाहता था। शिकारी ने सोचा, की अगर मैं यह जाल सेब के पेड़ के नीचे बिछा दूंगा तो मैं आसानी से हिरण को पकड़ सकता हूं।

 

शिकारी ने जल्द से जल्द अपनी योजना शुरू की और उसने सेब के पेड़ के नीचे एक जाल बिछाया और उसके ऊपर खूब सारे कई फल रखे। और शिकारी पेड़ के पीछे छुप गया ।

 

हिरण और शिकारी की कहानी

 

हिरण हमेशा की तरह उस सेब के पेड़ के नीचे फल खाने के लिए आया लेकिन हिरण ने देखा की सेब के पेड़ के नीचे कई और फल भी पड़े है हिरण उन फलों के देखकर रुक गया और उसने गौर से देखा तो फलों के नीचे हिरण को एक जाल नजर आया ।

 

हिरण ने गंध महसूस करने की कोशिश की तो उसे वंहा किसी के होने की गंध आने लगी हिरण जल्दी से वंहा से भाग गया और अपने आप को बचा लिया ।

 

शिक्षा :- कभी भी कुछ भी करने से पहले एक बार अच्छे से सोचना चाहिए ।

 

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ